Wednesday, September 29, 2021

लोअर बैक पेन से राहत देने वाले 9 महत्वपूर्ण आसन || Yoga Pose for Lower Back Pain

लोअर बैक पेन से राहत देने वाले 9 महत्वपूर्ण आसन  || Yoga Pose for Lower Back Pain      

पीठ के निचले हिस्से में दर्द आज के समय में एक बड़ी ही आम परेशानी बन गई है |  और दर्द के कई कारण भी हो सकते हैं, कमजोर रीड की हड्डी, पूरे दिन बैठने की खराब मुद्रा, या पूरे दिन खड़े रहने का काम | पीठ के निचले हिस्से में दर्द का कारण तनाव भी हो सकता है | यह जानना अति आवश्यक है कि पीठ के दर्द का कारण क्या है | ताकि दर्द का सही कारण जानकर सही उपाय किया जा सके, और दर्द दोबारा होने से रोक सके | लेकिन ज्यादातर परिस्थितियों के लिए कुछ आसान आसन है जो सभी प्रकार के कमर के निचले दर्द से राहत दिला सकते हैं |

       योग के अभ्यास से कमर को लचीलापन और कमर की हड्डी मजबूत व मुद्रा को सही किया जा सकता है - और यह सभी स्वस्थ पीठ के लिए आवश्यक है | कई प्रोफेशनल फिजिकल थेरेपी मानते हैं कि योग का अभ्यास प्रतिदिन करना सुरक्षित है | लेकिन यह जानना भी अति आवश्यक है कि आप अपने शरीर के अनुसार तथा दर्द के कारण के अनुसार आसन का अभ्यास करें | और ऐसा कुछ भी ना करें जिसके कारण आपकी परेशानी ओर बदतर बना दे | यदि आपकी पीठ के निचले हिस्से की चोटों का कोई इतिहास है, और आपकी डिस्क में कोई समस्या है, या दर्द जो 72 घंटे से अधिक समय तक रहता है, तो कोई भी व्यायाम करने से पहले एक बार भौतिक चिकित्सक को देखना अति आवश्यक है |

     वहीं दूसरी ओर यदि आपकी पीठ के निचले हिस्से में दर्द सामान्य दर्द है, तो किसी भी जकड़न और संरेखण के मुद्दों को दूर करने के लिए कुछ योगासन करने की कोशिश करना उचित है। लेकिन अगर आपको गंभीर दर्द होता है, तो कभी-कभी दर्द या पुराने दर्द वाले लोगों को कुछ मुद्राओं से बहुत फायदा हो सकता है जो आपकी रीढ़ की हड्डी को आराम दे, आपकी मांसपेशियों को फैलाने और मजबूत करने में मदद कर सकते हैं, और अपनी पीठ को उचित संरेखण में वापस कर सकते हैं |

          इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे आसनों के बारे में बताएंगे जो करने में बहुत ही सरल है साथ ही जिन का परिणाम बहुत ही अच्छा है |

1. बालासन  Child Pose (Balasana)

Girl doing Yoga

बालासन 

           बालासन को अंग्रेजी भाषा में कैट चाइल्ड पोज (Child Pose) भी कहते हैं | बालासन देखने में बहुत ही सरल आसन है, देखने वालों को ऐसा लगता है कि इस में आप आराम कर रहे हैं किंतु आसन का अभ्यास करते समय हमारे पीठ को इस मुद्रा में सक्रिय खिंचाव होता है जिसमें पीठ को लंबा करने में मदद मिलती है | यह एक लंबे दिन की थकावट को दूर करने के लिए सोने से पहले किया जाने वाला बहुत ही उत्तम आसन है |
यह मुद्रा किसी भी अभ्यास को करने से पहले पीठ को एक हल्का खिंचाव देने के लिए अति उत्तम आसन है | यह गर्दन कंधोऔर धड़ की मांसपेशियों को खुलने में मदद करता है और समय के साथ लचीलापन बढ़ाता है |

2. मार्जरी आसन  Cat/ Cow (Marjariasana)

Girl doing Yoga
मार्जरी आसन 
              मार्जरी आसन को अंग्रेजी भाषा में कैट स्ट्रेच पोज (Cat Stretch Pose) भी कहते हैं | क्योंकि इस आसन के अभ्यास के दौरान शरीर को बिल्ली के सम्मान ही बढ़ाया जाता है इसलिए इसको यह नाम दिया गया था | 
मार्जरी आसन पीड़ादायक दर्द को एकदम ठीक करने और पीठ की मांसपेशियों को ढीला करने के लिए उत्तम आसन है | इस असम का अभ्यास आप प्रतिदिन योगाभ्यास के रूप में भी कर सकते हैं |

3. अधोमुख श्वानासन Downward Facing Dog (Adho Mukha Shvanasana)

Girl doing Yoga
अधोमुख श्वानासन

           अधोमुख श्वानासन को अंग्रेजी भाषा में Downward Facing Dog भी कहते हैं | यह आसन हैमस्ट्रिंग Hamstring Muscles और बछड़ों की मांसपेशियों और हाथ पैरों की मांसपेशियों को मजबूत करता है | यह पीठ और साइटिका के दर्द को कम करता है और कंधों को मजबूत करता है | यह  पेट की मांसपेशियां abdominal muscles को भी  मजबूत करता है | यह आसन हमें तनाव मुक्त करता है | रक्त परिसंचरण को उत्तेजित करता है | 

4. पादहस्तासन Standing Forward Bend (Padahastasana)

Girl doing Yoga
पादहस्तासन 

          पादहस्तासन को अंग्रेजी भाषा में स्टैंडिंग फॉरवर्ड बैंड (Standing Forward Bend) भी कहते हैं |यह आसन हैमस्ट्रिंग मांसपेशियों Hamstring Muscles  और पीठ की मांसपेशियों को लचीलापन बढ़ाता है | इस असम के कई फायदे हैं | जैसे कि : यह पाचन अंगों की मालिश करता है , पेट फूलना, अपचन, कब्ज और गैस की परेशानी कम करता है, चयापचय में सुधार करता है, जीवन शक्ति बढ़ाता है, शरीर में लचीलापन बढ़ाता है | इस आसन के अभ्यास से कंधों की मांसपेशियां तनाव रहित होती है |

5. भुजंगासन  Cobra Pose (Bhujangasana )

Girl doing Yoga
भुजंगासन 

          भुजंगासन को अंग्रेजी भाषा में कोबरा पोज (Cobra Pose ) भी कहते हैं | यह आसन पेट के बल उल्टा लेट कर किया जाता है | यह मुद्रा आपकी छाती की मांसपेशियों को खोलने में, आपके पेट की मांसपेशियों को फैलाने में और आपकी पीठ को जोड़ने का काम करता है |

6. कपोतासन Reclined Pigeon Pose (Kapotasana)

Girl doing Yoga


                   कपोतासन को अंग्रेजी भाषा में रिक्लाइंड पिजन पोज (Reclined Pigeon Pose) भी कहते हैं | यह आसन योग के नए छात्रों के लिए थोड़ा मुश्किल है | हिप रोटेटर और फ्लेक्सर्स को फैलाता है। यह आसन पीठ दर्द से राहत नहीं दिला सकता किंतु तंग कूल्हे पीठ के निचले हिस्से में दर्द में योगदान कर सकते हैं। यह कूल्हों को खोलने के लिए सबसे अच्छे स्ट्रेच में से एक है। जो लोग पूरे दिन बैठकर काम करते हैं उनके लिए यह प्रतिदिन किए जाने वाला अच्छा आसन है

7. मत्स्येन्द्रासन  Reclined Supine Twist (Matsyendrasana)

Girl doing Yoga
मत्स्येन्द्रासन 

            मत्स्येन्द्रासन को अंग्रेजी भाषा में रिक्लाइंड सुपाइन ट्विस्ट पोज (Reclined Supine Twist) भी कहते हैं | |मत्स्येन्द्रासन आसन का अभ्यास करने से बहुत से रोग दूर होते हैं | इस आसन का अभ्यास करने से कमर हमेशा स्वस्थ और लचीला बना रहता है | इसका अभ्यास करने से पेट, कमर और जोड़ों के दर्द की समस्या से राहत मिलती है | पाचन शक्ति को सुचारू रूप से करने के लिए आसन का अभ्यास किया जाता है |

8. उत्थित त्रिकोणासन  Extended Triangle Pose (Utthita Trikonasana)

Girl doing Yoga
उत्थित त्रिकोणासन 
        उत्थित त्रिकोणासन को अंग्रेजी भाषा में कैट एक्सटेंड ट्रायंगल पोज ( Extended Triangle Pose ) भी कहते हैं | यह खड़े होकर किए जाने वाले आसन है | यह आसन रीड, कूल्हों और कमर सहित सभी मांसपेशियों को होता है | साथ ही यह है कंधों, छाती और पैरों को भी मजबूत बनाता है | यह आसन पीठ और गर्दन के दर्द को कम करने में मदद करता है |

9. शलभासन  Locust Pose  (Salabhasana)

         शलभासन को अंग्रेजी भाषा में कैट लोकस्ट पोज (Locust Pose) भी कहते हैं | यह आसन पेट के बल किए जाने वाला एक बहुत ही सरल आसन है | यह कमल आसन पीठ के निचले हिस्से में दर्द और थकान को दूर करने में मदद करता है | यह पीठ धड़ और हाथों को मजबूत करता है |

Healthy Long Life के इस ब्लॉग पे हम आपको  कुछ ऐसे ही असनो के बारे में बताये गे | ओर जानकारी के लिए हमारे साथ जुड़े रहे और अपनी टिप्पणी देना न भूले | 




Location: Noida, Uttar Pradesh, India

0 comments:

Post a Comment