Monday, October 4, 2021

अधोमुख श्वानासन करने का सही तरीका और उसके फायदे || The right way and the Benefits of Adho Mukha Svanasana

अधोमुख श्वानासन


    अधोमुख श्वानासन हिंदी में अधोमुख संवासन कहते हैं | योग के अभ्यास में यह बहुत ही आम आसन है | योगा के छात्रों को शुरुआत में इस आसन का अभ्यास करने में चुनौती हो सकती है | किंतु बहुत जल्द ही यह छात्रों का सबसे प्रिय आसनों में से एक आसन बन जाता है | क्योंकि यह मांसपेशियों को बहुत ही आसानी से खोलता है और साथ ही कई बड़े आसनों का अभ्यास करने के लिए भी यह आसन बहुत ही उत्तम है |

अधोमुख श्वानासन :- Adhomukha Svanasana

Meaning :- Adho -  Forward ; Mukha - Face ; Svana- Dog ; Asana - Pose
English Name :- Downward facing Dog Pose. 

अधोमुख श्वानासन के अद्भुत फायदे

  • इस आसन के अभ्यास से पूरा शरीर हाथ, कंधे, पेट और पैर मजबूत होते हैं | 
  • यह मन को शांत करता है |
  • रक्त संचार बेहतर करता है |
  • यह आसन रीढ़ की हड्डी में खिंचाव से शरीर के विभिन्न अंगों में ऑक्सीजन की आपूर्ति में सुधार करता है |
  • इस आसन के अभ्यास के दौरान आपका शरीर उल्टी V की स्थिति में है | इसका अर्थ है आपका ह्रदय आपके सिर के ऊपर है | इससे आपके सिर में रक्त का प्रभाव बेहतर होता है | इस योगासन का रोजाना अभ्यास करने से आपको ऊर्जा मिलती है |
  • इस आसन का लगातार अभ्यास करने से हमारे शरीर की मुद्रा में सुधार होता है |
  • यह आसन बैक बैंडिंग और फॉरवर्ड बेंडिंग के आसन के बीच में रीड की हड्डी को आराम देने के लिए एक बेहतरीन मुद्रा है |
  • यह आसन ना केवल रीढ़ की हड्डियों के लिए बल्कि बछड़ों (Calves) और हैमस्ट्रिंग (Hamstrings) मांसपेशियों को मजबूत करता है |
  • यह असर कमर के निचले भाग के दर्द में राहत देने के लिए बहुत ही उपयोगी माना जाता है

कैसे करें अधोमुख श्वानासन

  • अधोमुख श्वानासन आसन करने के लिए अपने योग कटाई पर मार्जारियासन (Marjariasana) में आ जाएं | इस आसन में अपनी कलाइयों को कंधों के नीचे और घुटनों को कूल्हों (Hips)के नीचे रखें |
  • आप अपने पैरों को और अपने हाथों को सीधा करते हुए और सांस को छोड़ते हुए (Hips)कूल्हों को ऊपर उठाएं, आसन पूर्ण होने पर आपका शरीर उल्टी V के आकार का बनेगा |
  • हाथ और पैर की उंगलियां सीधे आगे की ओर इशारा करते हुए फैलाएं और अग्र-भुजाओं (Forearms) से  नीचे की और उंगलियों तक पहुंचाएं |
  • कानों को भीतरी भुजाओं से छूकर गर्दन को लंबा रखें | कॉलर बोन को चौड़ा करने के लिए अपनी ऊपरी भुजाओं को बाहर की और घूमाए |
  • अपने हाथों को जमीन में दबाएं और नाभि की और देखें | अपने सिर को लटकने दे और और अपने कंधों के ब्लेड को अपने कानों से दूर अपने कूल्हों की ओर ले जाए |
  • मुद्रा में आने के बाद लंबी गहरी सांस ले |
  •  सांस छोड़ते हुए घुटनों को मोड़ मार्जारियासन (Marjariasana) और में आ जाएं और आराम करें |




सावधानी और चेतावनी
  • इस आसन का अभ्यास गर्भवती महिलाएं नहीं कर सकती |
  • अगर आपकी कलाई में किसी प्रकार की पुरानी चोट है तो इस आसन का अभ्यास ना करें |
  • यदि आपको उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, रीड की हड्डी में किसी प्रकार की परेशानी है तो इस आसन का अभ्यास ना करें |

अधोमुख श्वानासन के बाद किए जाने वाले आसन

  • चतुरंगा धंडासन
  • उर्ध्व मुख संवासना

अधोमुख श्वानासन के पहले किए जाने वाले आसन

Healthy Long Life के इस ब्लॉग पे हम आपको  कुछ ऐसे ही असनो के बारे में बताये गे | ओर जानकारी के लिए हमारे साथ जुड़े रहे और अपनी टिप्पणी देना न भूले | 






Location: Noida, Uttar Pradesh, India

0 comments:

Post a Comment